You Are Here: Home » barnala » राष्ट्रीय सीनियर नैट्टबाल मुकाबलों में भाग लेने से वंचित के लिए खिलाडिय़ों को गंभीर आरोप

राष्ट्रीय सीनियर नैट्टबाल मुकाबलों में भाग लेने से वंचित के लिए खिलाडिय़ों को गंभीर आरोप




बरनाला – पिछले दिनों पानीपत में हुई सीनियर नैट्टबाल मुकाबलों में भाग लेने वाली पंजाब की टीम को चयन में गड़बड़ी का बड़ा खुलासा सामने आया है। चौंदा(संगरूर) में हुए सीनियर स्टेट मुकाबलों में मानसा जिले का प्रतिनिधित्व करने वाले बरनाला निवासी गुरलाल सिंह सुपुत्र लछमण सिंह ने एक  लिखित ब्यान के द्वारा प्रबंधकों द्वारा की जा रही बड़े स्तर पर हेराफेरी करने का आरोप लगाया है। नैट्टबाल प्रोमोशन एसोसिएशन पंजाब द्वारा पिछले दिनों हुई राष्ट्रीय सीनियर मुकाबलों में सिफऱ् सिफारिशी खिलाड़ी लिजाए गए और बहुत बढिय़ा खेलने के बावजूद उसका चयन नहीं किया गया। राष्ट्रीय स्तर पर स्कूल और जूनियर ओपन मुकब्लों में पंजाब के लिए कई मैडल जीत चुका गुरलाल बढिय़ा प्रदर्शन के बावजूद प्रबंधकों की धक्केशाही के कारण राष्ट्रीय मुकाबलों में भाग लेने से वंचित रह गया। उसने आरोप लगाया है किआ राष्ट्रीय मुकाबलों में पंजाब के नेतृत्व बदले उससे पैसों की मांग की गई। उसको कहा गया की यदि उसने सीनियर राष्ट्रीय मुकाबलों में भाग लेना है तो •म से •म सभी ट्राफियों कस खर्चा उठाये, जो कई हज़ारों में बनता था। बेहद गरीब परिवार के साथ सबंधित इस होनहार खिलाड़ी के लिए इतना ख़र्च उठाना संभव ही नहीं था।
राष्ट्रीय मुकाबलों के लिए हमारा कैंप चंडीगड़ यूनिवर्सिटी में 15 दिन तक  लगाया गया। टीम रवाना होने से एक  दिन पहले तक जाने वाली टीम में उसका नाम था। आखिऱी रात उसको बताया गया किया वह टीम के साथ नहीं जा रहा, क्योंकि उसकी जगह ओर कोई बड़ी सिफ़ारिस आ गई। उसको यह भी कहा गया किआ उसे अगले महीने होने वाली फेडरेशन कप में चुन लिया जाएगा, प्रंतु एक बार फिर गुरलाल के साथ उस समय भी धक्का किया गया और टीम में शामिल नहीं किया गया। उसने आरोप लगाया किया खिलाडिय़ों का चयन खेल प्रतिभा की बिजाए पैसा देख कर किया जाता है और उसको धमकाया गया किया यदि उसने मुंह खोला तो आगे से उसका कभी भी चयन नहीं होगा। उसने यह भी आरोप लगाया किया सीनियर स्टेट मुकाबलों में मर्दों/महिलाओं की सिफऱ् 8टीमें ही आईं थीं जबकि 32 टीमों आने का दावा किया गया। उसने खेल विभाग और पंजाब ओलम्पिक एसोसिएशन से मांग की है किया उसको इंसाफ दिलाया जाए और प्रबंधकों के खि़लाफ़ सख़्त एक्शन लिया जाए।

About The Author

Journalist

Number of Entries : 3066

Leave a Comment

Close
Please support the site
By clicking any of these buttons you help our site to get better
Scroll to top